पड़ोसन भाभी की मस्त चुदाई

मेरा नाम अजय है, मेरी उम्र 22 साल है , मैं गाज़ियाबाद  में रहता | यह मेरा पहला सेक्स का  अनुभव है जिसे मुझे आप सबके साथ बांटने में ख़ुशी होगी | हमारा घर बहुत बड़ा है | मेरी पूरी फैमिली दुसरे मंजिल पर रहती है और नीचे वली मंजिल में एक खूबसरत भाभी और उसका पति रहता है, उनकी शादी को कुछ 2-3 साल हुए हैं पर अभी तक उन्हें कोई बच्चा नहीं है | भाभी बहुत खूबसूरत और सेक्सी हैं |

वो जबसे हमारे यहाँ रहने आये थे तब से ही मुझे उन भाभी के साथ सेक्स करने की ख्वाहिश थी और मेरी हरकतों से वो यह जान गई थी | उनका बदन ही ऐसा है कि कोई भी उस पर फ़िदा हो जाये, गोरा बदन, लम्बे बाल बड़े-बड़े भरे हुए स्तन, वो जब चलती है तो उसकी गांड क्या मस्त दिखती है | उसका आकार 36 होगा |

जब भी मौका मिलता, मैं उसके बदन को छूता और वो कुछ नहीं कहती थी | ऐसा बहुत दिन तक चलता रहा | अब मैंने उसके साथ सेक्स करने की योजना बनाई | एक दिन मेरे घर वाले एक शादी में जाने वाले थे | तब मैंने मेरी तबीयत ख़राब है  | यह कहकर मैंने टाल दिया | जब सब चले गए तो मैं उन भाभी के कमरे में चला गया | उसका पति भी दफ़्तर गया हुआ था और रात को आठ बजे के बाद आने वाला था | अब पूरे घर में हम अकेले ही थे | मैंने पहले तो उससे यहाँ-वहाँ की बातें शुरु की, फिर उसके काम में हाथ बंटाने लगा और इसी बहाने उसे बार-बार छूने लगा और जब मुझे पूरा यकीन हो गया कि उसे कोई एतराज नहीं है तो मैंने अचानक उनका हाथ पकड़ लिया | उन्होंने मेरी तरफ घूरते हुए कहा ये क्या कर रहे हो | मैंने उनकी तरफ प्यार से देखते हुए कहा की आज कुछ मत कहिये और उनको अपनी तरफ खींच लिया | तब वो मुझसे अलग होने की कोशिश करने लगी फिर मैंने उसके होठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे चूमने लगा | कुछ देर बाद वो भी गर्म होने लगी और मेरा साथ देने लगी |

फिर मैंने उनकी साडी हटा दी और उनके पूरे शरीर पर हाथ फिराने लगा | मैंने उनके ब्लाउस के बटन खोल दिए और अन्दर हाथ डालकर उनकी पीठ पर हाथ घुमाने लगा | फिर मैं उसके गले पर, उसकी पीठ पर चूमने लगा फिर मैंने उनका ब्लाउस उतार दिया | जिससे उनका गोरा बदन, उनकी काले रंग की ब्रा मेरे सामने आ गई | यह सब देख कर मेरा लंड पेंट फाड़ने लगा | फिर मैंने उसके स्तनों को ब्रा के ऊपर से ही चूसना शुरु किया और अपने हाथों से उसकी ब्रा खोल दी | जैसे ही मैंने ब्रा खोली उनके दोनों बूब्स लटकने लगे | मैंने हल्के से उन्हें अपने हाथों में पकड़ा और जोर से दबा दिया और साथ मैं अपने दांतों से उसके चुचियों को काटने लगा | जिसकी वजह से उसकी मुँह से आह की जोर से आवाज़ निकलने लगी |

मैं बहुत देर तक उनके बूब्स चूसता रहा | मैंने उनका पेटीकोट निकाल दिया | उन्होंने  काले  रंग की पैंटी पहन रखी थी जो बिलकुल भीग चुकी थी | मैंने उनको अपनी गोद में उठा लिया और उनको बिस्तर पर लिटाया और अपनी टी-शर्ट और जींस उतारकर उसके ऊपर आ गया | मैं उनके बूब्स पर चुमते हुए उनकी नाभि पर चूमा और नीचे की तरफ बढ़ा | पहले तो मैंने उनकी चूत पर पैंटी के ऊपर से ही किस किया और उनकी चूत को सहलाने लगा | उनको बहुत अच्छा लग रहा था और वो मुँह से आह उम् ऊह्ह की आवाजें निकाल रही थी |

फिर मैंने अपने दांतों से पकड़ कर उसकी पैंटी निकाल दी और उसकी गीली गोरी चूत को देख कर पागल हो गया | उनकी चूत पर एक भी बाल नहीं था | मैंने जैसे ही उनकी चूत पर अपना मुहँ रखा वो मदहोश होने लगी | वो मेरे सिर को अपनी चूत पर दबाने लगी और मुँह से सिस्कारियां निकलने लगी | मैं उनकी चूत को चाट रहा था और वो बेसुध होकर पड़ी थी | मैंने अपनी जीभ उनकी चूत में डाल दिया और उनकी चूत को अपनी जीभ से चोदने लगा | फिर वो उठकर बैठ गयी और उन्होंने मुझे धक्का देकर बेड पर लिटा दिया और मेरी पैंट खोलकर मेरा लंड अपने मुहँ में ले लिया | वो मेरे लण्ड को मुँह में लेकर वो अपने मुँह को ऊपर नीचे करने लगी | मुझे बहुत मज़ा आ रहा था | ये मेरी पहली चुदाई थी इसलिए मैं थोड़ी देर में उनके मुहँ में ही झड गया और उन्होंने मेरा सारा वीर्य अपने मुहँ में लेकर पानी की तरह पी लिया | मेरे झड़ने के बाद भी मेरा लंड खड़ा था और वो उसे चूसे जा रही थी | फिर हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए और मैं उसकी चूत और वो मेरा लंड चूसने लगी | उन्होंने मुझसे कहा अब मुझसे और सहा नहीं जा रहा प्लीज जल्दी से मेरी चूत में अपना लंड डाल दो  |

यह कहते हुए वो बेड पर लेट गई और अपनि टांगो को फैला दिया | उनकी चूत को देख कर मैं उनके ऊपर आ गया और उन्होंने अपने हाथों से मेरा लंड अपनी चूत पर रख लिया | फिर मैं अपना लंड उसकी चूत पर थोड़ी देर रगड़ता रहा और अचानक ही उसकी चूत में घुसा दिया | जिससे वो चीख उठी  मेरा अभी आधा लंड ही उसकी चूत में था | मैंने और जोर लगाया और उसकी चूत में पूरा लंड घुसा दिया | मेरा लंड पूरा अन्दर जाते ही उन्होंने मेरी पीठ पर अपने नाख़ून गड़ा दिए | मुझे बहुत जोश आ गया मैंने धक्के लगाने सुरु किये और उनको तब तक चोदा जब तक वो झड नहीं गईं | उसी बीच मैं उनके होंठों को चुसे जा रहा था | वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी और जोर –जोर से किस कर रही थी | चोदने के साथ- साथ मैं उसके बूब्स और चूचियोंको मसल रहा था और जोर जोर से धक्के लगा रहा था | लेकिन चुम्बन की वजह से वो चीख भी नहीं पा रही थी बस मुँह में ही आवाज निकाल रही थी। कुछ देर बाद वो मुझे जोर से चोदने को कहने लगी तो मुझे पता चल गया की वो भी झड़ने वाली है | मैंने धक्के बढ़ा दिए और मैं उसे जोर से चोदता रहा और उसने अपनी सांस रोक कर पानी छोड़ दिया | पर मैं उसको चोदता रहा | उसकी चूत गीली हो चुकी थी और पूरे कमरे में फच-फच की आवाजे आने लगी थी | फिर थोड़ी देर बाद मैं भी झड़ने वाला था | उसने चूत में ही झड़ने को कहा और मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में ही निकाल दिया |

 

फिर मैंने अपना लंड निकालकर उसके मुहँ में दे दिया उसने मेरे लंड को चाटकर साफ़ कर दिया और चूसकर फिर खड़ा कर दिया | फिर मैंने उसको घोड़ी बनने को कहा | फिर पीछे से उनकी चूत को चाटने लगा | मैंने उनकी गांड में ऊँगली डाल दी वो उछल पड़ी | उन्होंने मुझसे गांड मरने को मना किया | उनकी गांड क्या मस्त लग रही थी | मैंने अपना लंड पीछे से उनकी चूत में डाल दिया और धक्के लगाने लगा | वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी | लगभग 20 मिनट तक मैंने उनकी चूत मारी वो फिर से झड गयी | पर मेरा लंड अब भी खड़ा था | मैं उनकी गांड को सहलाने लगा और उनकी गांड पर अपना लंड रगड़ने लगा | उनके मना करने के बाद भी मैंने अपना लंड उनकी गांड में डाल दिया मेरे लंड का सुपाडा ही उनकी गांड में घुसा था | वो चिल्ला उठी वो मुझे गाली देने उन्होंने कहा भोसड़ी के बहार निकाल इसे  मैंने तुझसे गांड मरने को मना किया था फिर भी तूने मेरी गांड फाड़ दी मादरचोद | उनकी गांड से खून निकलने लगा था क्यूंकि उन्होंने आज तक किसी से गांड नहीं मरवाई थी | मैं रुक गया और उनको किस करने लगा उनकी आँखों में आंसू आ गए थे | मैंने उनसे सॉरी बोला और उनकी चुचियों को सहलाने लगा वो कुछ शांत हुई | और गांड मरवाने के लिए तैयार हो गयी | मैंने अपने लंड पर थोडा सा थूक लगाया और उनकी गांड में अपना पूरा लंड डाल दिया | उनको दर्द हो रहा था | मैं धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा | अब उनको भी मज़ा आने लगा था | वो भी गांड उछाल-उछाल कर मेरा साथ दे रही थी | मैंने लगभग 15 मिनट तक उनकी गांड मारी फिर मैं झड गया |

 

हम दोनों कुछ देर तक नंगे ही लेटे रहे फिर भाभी उठकर बाथरूम में नहाने चली गयी वो चल नहीं पा रही थी | मेरा लंड थोड़ी देर बाद फिर से खड़ा हो गया | मैं भी बाथरूम में घुस गया और उनको पीछे से पकड़ कर किस करने लगा | वो भी मुझे किस कर रही थी | मैं उनकी चूचियां मसलने लगा और मैंने उनकी चूत में उँगली डाल दी और सहलाने लगा वो फिर गरम हो गयी | मैंने उनको अपनी गोद में उठा कर उनके हांथो हो अपने गले में डाल लिया और उनको पीठ के भल बाथरूम की दीवार पर सटा दिया और उनके पैरों को उठा कर अपनी कमर में फसाया और उनकी चूत में अपना लंड डाल दिया और उनकी जमके चुदाई की | फिर हम दोनों ने साथ में नहाया और फिर कपडे पहने | भाभी ने जाते समय मुझे किस किया वो बहुत खुश थी उन्होंने मुझसे कहा की आज तक इतना मज़ा उनके पति से भी नहीं आया | उसके बाद हमें जब भी मौका मिलता था हम दोनों सेक्स किया करते थे |


Share on :