advertisement
advertisement
दोस्त की माल को चोदा और अपना बना लिया
advertisement

advertisement
advertisement
HOT Free XXX Hindi Kahani

कहते हे की आइटम हमेशा आप को दुसरे की ही अच्छी लगती हे. ऐसा कुछ मेरी लाइफ में भी हुआ. अपने दोस्त की गर्लफ्रेंड को मैंने अपनी रखेल कैसे बनाया! आप मेरे इस सेक्सी अनुभव को आज की इस हॉट कहानी में पढ़े.

यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप www.HindiSexStoriesPictures.Com पर पढ़ रहे हैं!

मेरा ये दोस्त मेरे ही गाँव का था जिसके साथ आगे की पढाई के लिए मैं सिटी में आया था. हम दोनों ने एक कमरा ले रखा था रहने के लिए.  एक दिन निमेश (मेरे दोस्त का नाम) ने मुझे कॉल कर के कहा मुझे देर हो जायेगी आने में तू खाना खा के सो जाना. मैंने कहा ठीक हे भाई. मैं खाने के बाद सोया ही था की वो अपनी माल जानकी को ले के कमरे पर आया. उसका शायद पक्का इरादा था जानकी को चोदने का.

वो दोनों ने मुझे देखा और समझे की मैं सोया हुआ हूँ. पर मैं जाग रहा था. निमेश खुश हो गया और उसने जल्दी से अपनी माल जानकी के कपडे उतारे और जानकी भी निमेश को चुम्बन पर चुम्बन देने लगी थी. जानकी के फिगर के बारे में क्या कहूँ दोस्तों, साली चलती फिरती राखी सावंत हे. मेकअप भी वैसा ही करती हे वो लंड खड़ा करनेवाला!

निमेश अब जानकी के बूब्स को चूस रहा था और उसकी गांड को पकड के दबा रहा था. जानकी भी एकदम गर्म हो गई थी और सिसकियाँ रही थी. उसने भी निमेश की पेंट को खोल के चड्डी में से लंड को बहार निकाल दिया. और वो लंड को टटोल सी रही थी. जानकी बड़ी ही होर्नी लग रही थी जैसे उसने काफी दिनों से लंड देखा ही ना हो. वो घुटनों पर बैठ के निमेश के लंड को मुहं में भर के चूसने लगी. बहुत लंड की भूखी लग रही थी!

निमेश ने लंड चुसाने के बाद जानकी को लिटा दिया. और वो उसके ऊपर चढ़ गया. उसने भी कस कस के इस लड़की की चूत को चोदी. जानकी के मुहं पर उसने अपना हाथ रख दिया था ताकि वो आवाज ना करें. वो नहीं चाहते थे की मैं जाग जाऊं. पर मैं तो कब से दोनों का सेक्स का खेल ही देख रहा था ना!

वो दोनों की चुदाई 10 मिनिट में खत्म हो गई. जानकी बाथरूम में जा के चूत धो आई और निमेश भी हल्का हो आया. फिर वो दोनों सो गए. मैंने भी चद्दर केअंदर अपने लंड को हिला लिया और सो गया. आज साला लंड हिलाने में भी बड़ा मजा आ गया था! वो दोनों साले मेरे सामने ही सोये हुए थे. जानकी के बड़े बूब्स बड़े सेक्सी लग रहे थे.

10-12 मिनिट के बाद जानकी ने निमेश का लंड अपने हाथ में पकड लिया और वो उसे हिलाते हुए बोली, कम ओन डार्लिंग एक बार फिर से करते हे. निमेश मुझे पेल दो फिर से. निमेश का तो खड़ा हुआ साली ने मेरा लंड भी खड़ा कर दिया. निमेश ने जानकी की टांगो को खोला और अपने लंड को अन्दर रख के चोदने लगा. वो दोनों अब की गहरी चुदाई में थे और फच फच के आवाज बढ़ से गए थे. साला मैं अब खुद पर कंट्रोल नहीं कर सका. मेरा भी लंड था और उसे भी चूत चाहिए थी. मैंने खड़े हो के फाटक से कमरे की बत्ती जला दी. जानकी की चूत में ही निमेश का लोडा था उस वक्त! वो दोनों मुझे खड़ा देख के एकदम से डर गए. जानकी ने अपने नंगे  बदन के ऊपर चद्दर खिंच ली और मैंने निमेश से कहा, तू बहार आ तो भाई एक मिनिट के लिए.

उसने भी चड्डी पहन ली और वो बहार आ गया. वो मेरे सामने देखने की हिम्मत नहीं कर पा रहा था. मैंने कुछ कहा नहीं पर वो बोला, भाई वो मुझे बहुत प्यार करती हे और मैं भी उसे एकदम लव करता हूँ.

मैं बोला, वो सब ठीक हे साले लेकिन एक छोटे से होटल के कमरे में जा के उसे चोदना, यहाँ हमारे मकानमालिक को पता चला तो तेरी गांड में बैगन और मेरी गांड में केला दे देगा. और फिर इतने पुरे एरिया में कोई हमें रूम नहीं देगा.

Hot Japanese Girls Sex Videos
advertisement
ये हिंदी सेक्स कहानी आप HotSexStoriesPictures.Com पर पढ़ रहें हैं|

वो बोला: लेकिन उन्हें बताएगा कौन?

मैंने निमेश से कहा, देख यार तुम दोनों को सेक्स करते हुए देख के मेरा लोडा खड़ा हो गया हे. और अब मैं जब तक चूत नहीं चोदुंगा तब तक ये शांत नहीं होगा.

वो बोला, मतलब?

मैंने कहा, मैं जानकी के साथ सेक्स करना चाहता हु!

वो बोला, अरे यार मेरा माल हे, तेरी भाभी हुई ना.

मैंने बहुत कहा लेकिन वो मान ही नहीं रहा था. आखिर मैंने कहा चल मैं रेखा आंटी और तरुण अंकल (मकानमालिक) को बोलता हु.

वो बोला: भाई ये तो दोस्तों केसाथ धोखा हो गया ना!

मैंने कहा, साले मेरे सामने उसे चोद के तुने ही मेरा खड़ा कर दिया हे, अब और क्या करूँ मैं. मैंने उसे अपनी बाइक की की दी और कहा तू घूम के आ थोड़ी देर, मैं जानकी को बोल के सब संभाल लूँगा.

वो जा रहा था तब मैंने कहा, एकाद घंटे के पहले वापस मत आइयो.

मैंने कमरे के अन्दर घुसा तो मेरे दोस्त की माल अभी भी चद्दर में ही थी. मैंने कमरे में घुस के उसकी चद्दर खिंची ली. वो डर गई. वो बोली, निमेश कहा हे?

advertisement
देसी हिंदी सेक्स वीडियो

मैंने कहा वो मुझे अंदर भेज के बहार गया हे.

मैं उसके पास में ही बैठ गया. मैंने उसे कहा, तो तुम लोग एक दुसरे को लव करते हो.

वो बोली, हां.

मैंने कहा ये सेक्स का धंधा कब से खोल के रखा हे तुमने!

वो बोली, क्या बकवास कर रहे हो.

मैंने कहा, उसका लंड पकड़ के चूत में मांग रही थी तब बकवास नहीं था.

वो सन्न रह गई. मैंने कहा, चलो अब मेरा भी ले लो वरना पंगे हो जायेंगे.

वो बोली, नहीं नहीं प्लीज़ ऐसा मत करो मैं निमेश से प्यार करती हूँ.

मैंने कहा, वो कौन सा तेरे से शादी करेगा छिनाल, उसकी तो बचपन से बरेखी (मंगनी) लगी हुई हे विलेज में.

वो कुछ बोल नहीं सकी. मैंने चद्दर अपने हाथ से खिंची. वो अंदर नंगी ही थी. मैंने पेंट से अपना लंड बहार निकाल के उसके मुहं में दे दिया. वो बिना मुड के उसे चूसने लगी थी. मैंने उसके बाल पकड के कहा, साली रंडी उसका तो पूरा अन्दर ले रही थी और मुझे ऊपर ऊपर से लोलीपोप.

advertisement
Free Hot Sex Kahani

जानकी के आंसू निकल गए और उसने आधे से ज्यादा लंड को मुहं में ले लिया. मैंने उसके बाल पकडे हुए थे अभी भी. और उसके मुहं का फकिंग कर दिया मैंने लंड को हिला के. उसका थूंक उसके होंठो के कौने से बहार आने लगा था. और उसका चहरा एकदम लाल हो गया था. फिर मैंने उसके मुहं से लंड निकाला. और उसके दोनों बूब्स के बिच में रख दिया. वो बोली, क्या?

मैंने कहा दोनों बूब्स को दबाओ अपने मेरे लंड के ऊपर. उसने ऐसा ही किया. मैंने उसके बूब्स को चोदना चालू कर दिया. अब वो भी रोने की जगह एन्जॉय सा करने लगी थी मेरा ये काम. उसने कस के बूब्स को मेरे लौड़े के ऊपर दबाये रखे. और मैंने उसके बाल पकड़ के बूब्स को जोर से रगड़ दिया.

बूब्स की चुदाई के बाद मैंने उसे कहा चलो अपनी टाँगे खोलो जान. वो पलंग में लेट गई और उसने अपनी मोटी जांघो को फैला दिया. मैंने उसके ऊपर चढ़ के अपने लौड़े को चूत में पेल दिया. उसकी चूत आगे  पानी निकाल चुकी थी इसलिए गीली ही थी अन्दर से. लंड बिना किसी परेशानी के अन्दर घुस गया. मैंने उसके बूब्स चूसते हुए चुदाई चालू कर दी. जानकी को भी मेरे लंड से बड़ा मजा आने लगा था.

मैंने उसे चोदते हुए कहा, कैसा लगा मेरा लंड? निमेश का अच्छा हे या फिर मेरा?

वो हंस के बोली, अब खुद अपनी तारीफ़ सुनना चाहते हो.

मैंने कस कस के उसको पुरे पौने घंटे तक चोदा. पहले मैंने उसे मिशनरी पोस में, फिर कुतिया बना के. और एंड में वो 10 मिनिट तक मेरे लंड पर उछलती रही. मेरा था की निकलता ही नहीं था. वो थक के चूर हुई तब जा के मेरा पानी छुटा.

उसे भी आज मेरे से चुद के बहुत मजा आ गया.

मैंने कपडे पहनते हुए कहा, निमेश के साथ मेरा भी लेते रहना जब मन करे.

यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप www.HindiSexStoriesPictures.Com पर पढ़ रहे हैं!

वो रंडी अपनी पेंटी पहनते हुए बोली, अब तो उसकी जगह तुम्हारा ही लेने का मन होता हे.

advertisement
कामुकता सेक्स स्टोरीज

मैंने कहा, एक लंड ने प्यार की हवा निकाल दी ना मेरी जान.

वो बोली, तुमने तो कहा की वो मेरे से शादी नहीं करेगा. (अब भला मैं उसे थोड़ी कहनेवाला था की निमेश की कोई मंगनी नहीं हुई थी मैंने उसे जूठ ही कहा था!!!)

advertisement

advertisement
advertisement
advertisement
advertisement
advertisement
advertisement
advertisement