पुलिस वाले के प्यार में चुद गयी

hindi sex stories हेल्लो दोस्तों मेरा नाम अंजली है | मैं आज आप लोगो के सामने अपनी एक कहानी को प्रस्तुत करने जा रही हूँ | ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना | मैं जो आज कहानी आप लोगो के सामने लिखने जा रही हूँ इस कहानी में मैं एक पुलिस वाले से चुद गयी थी | दोस्तों मैं आप सभी लोगो से आशा करती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आएगी और इस कहानी को पढने में आप लोगो को मज़ा तो खूब आएगा | मैं कहानी को शुरू करने से पहले अपना परिचय दे देती हूँ | मैं रहने वाली विजयवाडा की हूँ | मेरी उम्र 24 साल है और मैं एक प्रेस रिपोर्टर हूँ | मेरा रंग बहुत गोरा हूँ और दिखने में बहुत सेक्सी लगती हूँ | मैं आप लोगो को अपने फिगर के बारे में बता देती हूँ | मेरे बूब्स काफी बड़े है और बहुत ही गोल हैं | मेरी गांड बहुत सेक्सी हैं और ज्यादा बड़ी तो नही है पर एकदम गोल है जिससे मेरी गांड बहुत सेक्सी लगती है | मेरी गांड को देख कर किसी की भी नियत ख़राब हो जाये | मैं अब ज्यादा टाइम न लेती हुई सीधे कहानी पर आती हूँ |
ये कहानी अभी कुछ महीने पहले की हैं जब मैं प्रेस रिपोर्टर का काम करती थी | मैं जिस जगह काम करती थी उस चैनल का नाम नही बता सकती हूँ | दोस्तों उस टाइम की बात थी की मेरे शहर में एक पुलिस वाले का मदर हो गया था तो उसकी जाँच के लिए दूसरी जगह से एक पुलिस वाले को बुलाया गया था | जब वो यहाँ आया तो मैं उसके इतंजार में थी | जब वो आया तो उसको देखकर मेरे तो होश ही उड़ गए | वो दिखने में बहुत स्मार्ट था और दिखने में तो कहीं से पुलिस वाला नही लगता था | मुझे तो वो किसी फिल्म का हीरो लगता था | मैं उसको पहली बार देखते ही उस पर लट्टू हो गयी और उसके प्यार में पागल हो गयी | मैं आप लोगो को उसके बारे में बता कर कहानी को आगे बढाती हूँ | उसका नाम सूर्या था और वो दुसरे शहर से आया था | उसकी उम्र 27 साल थी | उसकी हाईट भी काफी ठीक थी और उसकी बॉडी तो बहुत ही मस्त थी | जब वो पहले दिन आकर अपनी ड्यूटी ज्वाइन की तो मैं उस दिन उसके इन्टरव्यू के लिए गयी तो उसने मन कर कर दिया | मैं उस दिन अपने काम से इधर उधर घुमने लगी | फिर उसके दुसरे दिन की बात है जब वो मुझे ड्यूटी के समय एक जगह मिला तो मैंने उससे बात करने की कोशिश की पर वो मुझे जैसी हॉट लड़की को भाव नही दे रहा था और मैं उस दिन कसम खा ली की इसे अपने प्यार के जाल में फ़ांस कर रहूंगी |
मैं अब उसके आगे पीछे घुमने लगी और उसके तीसरे दिन की बात है जब मैंने उससे बात की तो उसने कहा अच्छी लड़कियों को पुलिस स्टेशन नही आना चाहिए तो मैं मौके का फयदा उठाते हुए कह ही दिया की तो आप ही बता दो कहा आया करूँ | तब वो मुझसे बोले की अपने काम पर ध्यान दो और जाओ मेरे पास टाइम नही है तुमसे बात करने का | दोस्तों मैं उसके उसी अंदाज पर फ़िदा थी | उसके कुछ दिन बाद की बात है जब मैं उससे बात करने के लिए उसके घर पहुच गयी | उस दिन उसने मुझे बैठने को कहा और मैं बैठ गयी | तब सूर्या मेरे लिए चाय बना कर लाया और मैंने उससे बात करती हुई चाय पीने लगी | मैं जब चाय पी रही थी तो उससे बात कर रही थी | मैंने उससे कहा सर आप की शादी हो गयी तो उसने कहा की नही मेरी शादी नही हुई है और अगर मेरी शादी हुई होती तो अपनी बीबी से साथ नही आता | मैं ये बात सुनकर मन ही मन में बहुत खुश हुई और उससे बात करने लगी | मैं और सूर्या एक दुसरे से ऐसे ही बात करते रहे और फिर मैं चली आई | उसके बात मैं अक्सर उसके घर जाया करती थी और उससे बात भी करती थी | मैं उसके प्यार में पूरी तरह से डूब चुकी थी और वो भी मुझे पसंद करता था इसलिए मुझे अपने घर आने देता था क्यूंकि मेरे सिवा उसके घर पर और कोई किसी को जाने के इज़ाज़त नही थी | पर वो मुझे जाने देते थे इसकी यही वजह थी की वो भी मुझसे प्यार करते थे | अब वो भी मुझे बात करने लगे थे और मैं भी उनसे बाते करती थी | वो मुझे बाते करते तो मुझे बहुत अच्छा लगता था और मैं उन्हें पाने के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार थी |

उसके कुछ दिन के बाद की बात है जब मैं उनके घर गयी और वो बाथरूम में नहा रहे थे | मैं जाकर बैठ गयी और जब वो नहा कर बाहर आये तो मैं उनको देख कर पागल हो गयी | वो मेरे सामने टॉवल में थे और उनके मस्त चिकनी बॉडी मुझे दिख रही थी | मैं उनको ऐसे देख कर अपने आप पर कंट्रोल नही कर आई और उनसे लिपट गयी | मैं उनके लिपट कर उनकी होठो पर अपनी होठो को रख दिया | वो कुछ देर तक तो कुछ नही बोले फिर मुझे अपने आप से दूर कर दिया और अंदर चले गए | फिर वो कपडा पहन कर बाहर आये तो मुझसे बोले की तुम्हे क्या हुआ था | मैंने भी बिना किसी डर के कह दिया की मैं तुमसे प्यार करती हूँ और तुम्हारे लिए कुछ भी करने को तैयार हूँ | वो मेरी ये बात सुनकर बोले की हाँ ठीक है मुझे थोडा काम से जाना है अगर तुम्हारा मन हो तो रुक सकती हो | मैं शाम तक आऊंगा तो साथ में डिनर करता हूँ | मैं उनकी ये बात समझ गई और रुक गयी | उस रात जब वो आये तो हम दोनों ने एक साथ डिनर किया | फिर मेरा मन हुआ की यही रुक जाती हूँ और मैं वहीँ रुक गयी | दोस्तों सायद वो भी मेरे रुकने का ही इंतजार कर रहा था इसलिए बिना कुछ बोले ही मान गया | फिर जब मैं उसके साथ उसके रूम में लेट गयी तो वो मुझे सेक्सी नज़रो से देखते हुए मेरी होठो को अपनी ऊँगली से मसलने लगा | मैं भी उसका साथ देती हुई उनसे लिपट गयी तो वो मेरी होठो पर अपनी होठो को रख दिया और मेरी होठो को चूसने लगा | मैं भी उसकी होठो को चूसने लगी | हम दोनों ऐसे ही एक दुसरे की होठो को चूस रहे थे | वो मेरी रसीली होठो को चूसने के साथ मेरे बूब्स को पकडे के ऊपर से दबाने लगा | वो मेरे बूब्स को दबाते हुए मेरे कपडे उतार दिए जिससे मैं उसके सामने ब्रा और पैंटी में आ गयी | वो मेरे बूब्स को ब्रा के ऊपर से दबाते हुए मेरी ब्रा भी खोल दी जिससे मेरे बड़े और गोल बूब्स उसके सामने आ गए | वो मेरे बूब्स को दबाते हुए मुंह में रख कर चूसने लगा तो मेरे मुंह से तेज सांसे निकलने लगी | वो मेरे बूब्स को जोर जोर से मसलते हुए चूस रहा था | मैं जोर जोर से सिसकियाँ ले रही थी |
दोस्तों वो मेरे बूब्स को घुमा घुमा कर कुछ देर तक चूसता रहा | फिर उसने मेरी पैंटी को निकाल कर मेरी चूत में अपनी जीभ को घुसा दिए | उसकी जीभ के स्पर्स से मेरे जिस्म में आग लग गयी और मैं बेकाबू हो गयी | मैं उसके सर को चूत में दबाती हुई आ आ आ आ… ऊ ऊ ऊ ऊ…. सी सी सी… की सिसकियाँ लेने लगी | वो मेरी चूत को चाटने के साथ मेरी चूत में ऊँगली भी भी घुसा दी जिससे मेरे मुंह से जोरदार ई ई ई ई… सी सी सी सी…. ऊ ऊ ऊ…. अ अ अ अ…. की सिसकियाँ निकल गयी | वो मेरी चूत में ऐसे ही जोर जोर से ऊँगली को डाल कर हिलाते रहे | फिर वो अपने कपड़ो को निकाल कर मेरी मेरे मुंह में अपने मोटे लंड को घुसा कर चुसाने लगे | मैं उनके लंड को मुंह में रख कर जोर जोर से अन्दर बहर करती हुई चूसने लगी | वो लंड को ऐसे ही कुछ देर तक चुसाने के बाद मेरे मुंह से लंड को निकाल कर मेरी चूत में घुसा दिया | उनके लंड मेरी चूत में जैसे ही घुसा तो मैं उछल गयी | उनका लंड काफी बड़ा मोटा था था जिससे मेरी चूत फट गयी और मेरी आँखों में अंशु आ गए | दोस्तों कुछ समय के लिए तो मेरी सांसे ही रुक गयी और मेरे मुंह असे और कोई आवाज नही निकली | फिर वो मेरी चूत में धीरे धीरे धक्को के साथ अन्दर बाहर करने लगा | तब मेरी चूत का कुछ दर्द कम हुआ तो मैं चुदाई का मज़ा लेने लगी | वो मेरे दोनों बूब्स को हाथ में पकड कर जोरदार धक्को के साथ अन्दर बहर करते हुए मुझे चोदने लगे और मैं मज़ा लेती हुई अपनी चूत को हिला हिला कर चुदने लगी | वो मेरी चूत में जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करते हुए मुझे चोद रहे थे | मैं ऊ ऊ ऊ ऊ… आ आ आ आ… सी सी सी सी.. अ अ अ अ अ…. की सिसकियाँ लेने लगी | वो मुझे ऐसे ही जोरदार धक्को के साथ 15 मिनट तक चोदने के बाद झड़ गए |
फिर मैंने उनके लंड को चाट चाट कर साफ कर दिया और फिर हम दोनों ने कपडे पहन लिए और सो गए | उस रात मुझे चुदाई में बहुत मज़ा आया था और उस चुदाई के बाद मैं उनसे कई बार चुद चुकी हूँ | धन्यवाद्……………

Share on :