चाची की भूल का उठाया फायदा

sex stories in hindi हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग ? मैं उम्मीद करता हूँ की आप सभी लोग ठीक ही होगे | दोस्तों मैं आज आप लोगो के सामने अपनी एक कहानी पेश करने जा रहा हूँ | मैं जो आज कहानी आप लोगो के सामने पेश करने जा रहा हूँ ये मेरे जीवन की सच्ची कहानी है और मेरी पहली चुदाई की कहानी | दोस्तों मुझे इस चुदाई में बहुत मज़ा आया था और मैंने उस दिन अपनी चाची को पूरा नंगा करके चोदा था | मैं कहानी को शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देता हूँ | मेरा नाम अमित है और मेरी उम्र 18 साल है | मैं रहने वाला एक छोटे से गाँव का हूँ | मैं दिखने में ज्यादा सुन्दर तो नही हूँ पर जितना भी हूँ ठीक हूँ | मेरे लंड का साइज़ 6 फुट लम्बा है और मोटा 3 इंच है | मैं आप लोगो से उम्मीद करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आएगी और इस कहानी को पढने में आप लोगो के मन में चुदाई की इच्छा जरुर आ जाएगी | मैं अब ज्यादा टाइम न लेते हुए सीधे कहानी शुरू करता हूँ |
ये कहानी अभी कुछ दिन पहले की है जब मेरे छोटे चाचा ने अपनी शादी अपनी मर्जी से कर ली थी | मेरे चाचा ने लव मैरिज की थी | मेरी चाची भी कुछ कम सेक्सी नही है | चाची का भरा हुआ बदन और उनकी जवानी को देखकर किसी के मुंह में पानी आज जाये | दोस्तों मैं अपनी चाची के बारे में बता देता हूँ | मेरी चाची का नाम नीलम है और वो दिखने में बहुत गोरी हैं बिलकुल दूध की तरह | चाची के बड़े बड़े बूब्स और उनकी बड़ी चौड़ी गांड को देखकर मेरा मन चाची की चुदाई करने का होता था | जब चाची घर में रहने लगी तो कुछ दिन बाद पता चला की चाची को भूलने की आदत है | दोस्तों जब मुझे ये बात पता चली तो मैंने सोचा की क्यूँ न इसका में फायदा उठा लूँ और फिर उस दिन के बाद जब चाची से कोई काम बिगड़ जाता या कोई काम भूल जाती तो मेरे चाचा और मेरे घर के सब लोग चाची को डाटते तो मैं उस मौके का फायदा उठाते हुए चाची से बात करता और उनको एहसास दिलाता की मैं उनके साथ हूँ | उनको किसी की बात का कोई बुरा नही मानना है | मेरी चाची को कोई बीमारी थी जिससे वो कोई भी काम करने जाती तो कुछ ही देर में भूल जाती थी जिससे चाची पर घर के सभी लोग गुस्सा होते थे | मैं उस मौके का फायदा उठाते हुए चाची से बात करता और उनके साथ मजाक करता |
एक दिन की बात है जब चाची किचन में थी और खाना बना रही थी | उस दिन घर में कोई भी नही था तो मैं मौके का सही फायदा उठाते हुए | चाची के पास गया और उनको पीछे से पकड लिया जब मैंने उनको पीछे से पकड़ लिया तो वो एकदम चौंक गयी और मुझे धक्का देकर पीछे कर दिया | मैं कुछ देर बाद फिर चाची को पकड लिया और उनको चूमने लगा | मैं जब उनको चूमने लगा तब फिर से चाची ने मुझे हटा दिया |

चाची – अमित ये तुम क्या कर रहे हो ?
मैं – चाची में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ |
चाची – तुम मुझसे दूर रहो और अगर तुमने मेरे साथ कुछ किया तो मैं तुम्हारी शिकायत तुम्हारे चाचा से कर दूंगी |
मैं – चाची की ये बात सुनकर चुप चाप किचन से बाहर आ गया और कुछ घंटो बाद फिर से चाची को उनके कमरे में गिरा लिया | मैं चाची के बड़े बड़े चिकने बूब्स को ब्लाउज के ऊपर से दबाते हुए उनकी होठो को चूम लिया | मैंने जब चाची को होठो को चूम लिया तो मुझे बहुत अच्छा लगा और चाची मुझे बहुत घुस्से से देखती हुई मुझे एक हाथ मार दिया | दोस्तों जब चाची ने मुझे मारा तो मुझे बहुत अच्छा लगा और उस दिन मैंने चाची की चुदाई करने की कसम खा ली | चाची का गुलाबी जिस्म और उनकी भरी जवानी के मजे लूटने के बारे में सोचने लगा | मैं उस दिन ये भी सोच रहा था अगर इसके बारे में चाची ने चाचा से कह दिया तो मुझे बहुत मार पड़ेगी और साथ में ये भी सोच रहा था की चाची तो इसके बारे में भूल भी जाएँगी | उस दिन चाची ने इसके बारे में किसी से कुछ भी नही कहा तो मैंने भी चाची के साथ तब ज्यादा ही मस्ती करने लगा | जब घर में कोई नही होता तो मैं चाची के साथ सेक्स करने की कोशिश करने लगा पर चाची मेरा साथ नही देती थी | मैं मौका पाने पर चाची के साथ सेक्स करने की कोशिश करता था | ऐसे ही कभी दिन हो गए और जब मैं उनके साथ ये सब करने की कोशिश करता तो वो इसके बारे में चाचा से भी नही कहती | तब मैंने कुछ दिन बाद जब घर में कोई नही था तो मैंने उस दिन चाची को उसने ही बेडरूम में कस कर पकड कर बेड पर गिर लिया | जब मैंने चाची को बेड पर गिर लिया तब |

चाची ने कहाँ अमित मुझे छोड़ो | मैं उनकी किसी भी बात को न सुनते हुए उनको अपनी बाँहों में भर कर बेड पर लेटा था और उनको गर्म करने की कोशिश कर रहा था | चाची मुझसे छोड़ने को कह रही थी साथ में मेरे हाथो को खोलने की कोशिश कर रही थी |
मैंने चाची को इतने कस के पकडे हुए था की वो मेरे हाथो को खोलने की बहुत कोशिश कर रही थी पर नही खोल पा रही थी | मैं उनको चूम रहा था | वो मेरी बाँहों से छुटना चाहती थी पर मैं उनको अपनी बाँहों में कस के पकड कर चूमने के साथ उनकी रसीली होठो को मुंह में रख कर चूसने लगा | मैं जब चाची की होठो को मुंह में रख कर चूसने लगा तो वो कुछ देर तक मेरा साथ नही दे पा रही थी पर मैं उनकी रसीली होठो को मुंह में रख कर जोर जोर से चूस रहा था | मैंने उनकी होठो की लिपस्टिक को कुछ ही देर में चूस डाली और उनको गर्म कर दिया | जब चाची गर्म हो गयी तो वो भी मेरा साथ देती हुई मेरी होठो को चूसने लगी | मैं चाची की होठो को चूसने के साथ उनके बड़े और चिकने बूब्स को कपडे के ऊपर से दबा रहा था और वो मेरी होठो को मुंह में रख कर चूस रही थी | मैं चाची की होठो को ऐसे ही कुछ देर तक चूसने के बाद मैंने अपने कपडे निकाल दिए जिससे मैं उनके सामने बिना कपड़ो के आ गया | मैं अपने कपडे निकलने के बाद उनके भी कपडे निकाल दिए जिससे वो ब्रा और पैंटी में आ गयी | दोस्तों वो ब्रा और पैंटी में बहुत सेक्सी लग रही थी और मैं उनके सेक्सी जिस्म को देखकर उनके ऊपर भूंखे शेर की तरह टूट पड़ा | मैं उनको अपनी बाँहों में भर कर उनकी ब्रा के हुक को खोल दिया | मैं उनकी ब्रा को खोल कर उनके बड़े बड़े बूब्स को मुंह में रख कर चूसने लगा | मैं उनके एक दूध को मुंह में रख कर दूध के निप्पल को चूस रहा था और दुसरे दूध को हाथ में पकड कर चूस रहा था | मैं उनके बूब्स को मुंह में रख कर जोर जोर से चूस रहा था और वो जोर जोर से सेक्सी आवाजे कर रही थी | मैं उनकी वो आवाजे सुनकर और जोश में आ गया और उनकी चूत में ऊँगली घुसा दी |
दोस्तों मैंने जैसे ही उनकी चूत में ऊँगली घुसाई तो उनके मुंह से अह अह अह…. हाँ हाँ उई अह उई माँ उई माँ माँ….. सी सी उई सी उई हाँ हाँ सी…. की सिसकियाँ लेने लगी | मैं उनकी चूत में ऊँगली को घुसाने के साथ उनकी चूत के दाने को अपनी होठो से पकड के अपनी और खीच खीच कर चूसने लगा | मैं उनकी चूत को ऐसे ही कुछ देर तक चाटने के बाद उनके हाथ में अपने लंड को पकडा दिया | चाची मेरे लंड को आगे पीछे करती हुई मुंह में रख लिया और जोर जोर से अन्दर बाहर करती हुई चूसने लगी | चाची मेरे लंड को मुंह में रख कर जोर जोर से अन्दर बाहर करती हुई चूसने लगी और मैं अपने लंड को ऐसे ही कुछ देर तक चुसाने के बाद उनके मुंह से निकाल कर उनकी चूत के मुंह पर रख दिया | मैंने लंड को चाची की चूत में धीरे से घुसा दिया जिससे चाची के मुंह से मस्त सेक्सी आवाज निकल गयी | मैं भी चाची की दोनों टांगो को पकड कर चूत में धक्के मारने लगा | मैं चाची की चूत में धीरे धीरे धक्को की स्पीड तेज कर दी जिससे चाची आ आ आ आ….. अ अह अ अह उई अह उई… हाँ हाँ ई ऊई ऊ ऊ आ ऊ आ ऊ… की आवाजे करती हुई चुदाई का मज़ा लेने लगी | चाची चुदाई का मज़ा लेती हुई अपनी चूत को हिला हिला कर चुदने लगी | फिर मैंने चूत से लंड को निकाल कर चाची को घोड़ी की तरह खड़े कर दिया | जब चाची ठीक घोड़ी की तरह खड़ी हो गयी तो मैंने उनकी चूत में पूछे से लंड को घुसा कर जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करते हुए उनको चोदने लगा | मैं उनकी पतली कमर को पकड कर जोरदार धक्को के साथ अन्दर बाहर करते हुए चोद रहा था जिससे चाची की चूत से पानी निकल गया और वो झड गयी | चाची के झड़ने के ठीक 3 मिनट बाद मैं भी झड़ गया |

फिर मैंने अपने कपडे पहन लिए और चाची ने अपने कपडे पहन लिए | अब मुझे जब ही चाची की चूत के मजे लेने का मन होता है तो मैं उनको किसी न किसी बहाने से चोद देता हूँ |

Share on :