नंदोई ने चोदा

मेरा नाम रेनू गुप्ता है , मेरी उम्र ३२ साल है , शादी को १० साल हो गए हैं .


यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप www.HindiSexStoriesPictures.Com पर पढ़ रहे हैं

आज मई आपको जो कहानी बताने जा रही हूँ वो कहानी मेरे नंदोई(पति के बहनोई)की है , कहानी यास प्रकार है ,

मेरे पति सिर्फ एक भाई बहन हैं , बहन बरी है और मेरे पति से ५ साल बड़ी है , वो डेल्ही माय रहती हैं , वो काफी खुबसूरत है लेकिन मेरे नंदोई उनसे भी सुंदर हैं , वे तागरे बदन के स्मार्ट मर्द हैं , वो स्वभाव से भी काफी मजाकिया हैं , मेरा रिश्ता तो वैसे भी उनके साथ हंसी मज़ाक का है यास लिए वे सबके सामने ही मेरे साथ हंसी मज़ाक और प्यारी चेर-चार किया करते हैं , लेकिन धीरे धीरे मई ये महसूस कर्नेलागी की जीजा जी यानी की मेरे नंदोई की भावना मेरे प्रति ठीक नहीं है , कई बार मई अकेली होती तो कभी मेरी कमर पैर चिकोटी काट लेते या कभी मेरे गलों को चूम लेते , उनकी ये हरकतें मुझे बहुत अची लगती लेकिन बुरा मानने का नाटक करती , उनको मन से मना करने का तो सवाल ही नहीं उठता था , एक बार होली माय वे हमारे यहाँ आये हुवे थे , होली तो वैसे भी मस्ती का त्यौहार है और जीजा और सह्लाज के बीच तो काफी खुल केर होली होती है , वैसा ही माहौल मेरी ससुराल माय था , मेरी ननद तथा पति तो थोरी देर रंग खेल केर शांत बैठ गए लेकिन जीजाजी तो मेरे पीछे ही पर गए ,

मुझे रंगों से दर लगता है यास लिये नंदोई जी मेरे ऊपर रंग डालने के लीये लपके , वैसे ही मई भाग केर अपने कमरे माय चिप गई और दरवाजा भिड़ा लिया , लेकिन वो कब मानने वाले थे जबरदस्ती दरवाजा ठेल केर अंदर आ गए और मुझे अपनी बाँहों मई दबोच लिया ,

“जीजा जी , प्लीज रंग मत ”दालियेमै बोली

“अच ठीक है , मई रंग नहीं डालूँगा , लेकिन तुम्हे यास तरह भाग कर छिपने की सज़ा जरूर ”दुन्गाजिजा जी बोले और एक बहन से मुझे लापता और दूसरा हाँथ मेरे ब्लौसे में घुसेड दीया ,

“जीजा जी मुझे ”चोरियेमै सीस्कारी लेकर बोली ,

“पहले तुम्हे ठीक से सजा तो दे ”दुन्वय बोले और मेरी चूचियों को बरी बेदर्दी से मसलने लगे ,

“जीजा जी प्लीज चोर दीजिये कोई देख ”लेगामै कराहते हुवे बोली ,

“उससे क्या फर्क परता है , यास घर नैन किसी की हीमत नहीं जो मेरे आगे ”बोले , वे हंस केर बोले और फिर उन्होने मेरी एक चूची को बुरी तरह नीचोरा की मैं चीख पारी ,

“जीजा जी मैं आपके हाँथ जोर्ती हूँ मुझे जाने ”दीजियेमै प्रार्थना भरे शावर मई बोली ,

“हाँथ जोर्नी की जरुरत नहीं , पहले एक वादा करो तो जाने ”दुन्गाजिजा जी बोले ,

“कैसा ”वादमैनी पुचा

“रात को छत वाले कमरे मई आओगी , वादा ”करोवय बोले

“ऐसा कैसे हो सकता है , अगर किसी ने देख लिया ”तोमैनी कहा ,

“उसकी चिंता मत करो , अगर कोई जाग गया तो मैं बहाना बना दूंगा मेरी तबियत खराब थी और मैने दवा लेकर बुलाया था , ”

जीजा जी बोले जल्दी से वादा करो , ये कहते समय जीजा जी मेरे दोनों निपलों को अपने दोनों हांथों की उंगलीयों से यास तरह मसल रहे थे की मेरी जान हलक मैं आ गई थी , एअस्सय बचाने का एक ही उपाय था और वह यह की मैं उनकी बात मान लूँ , आखिर मजबूर होकर वही करना परा ,

“वैरी गुड , ये सब लोग खाना खा केर जल्दी सो जाते हैं , मैं रात १० बजे तुमहरा इंतजार ”करुन्गावो चूची मसलते हुवे बोले ,

मैने सीर हिला दिया और चुपचाप कमरे से बाहर कीकल गई ,

रात मैं १० बजे के बाद जब सब लोग सो गए मैं दबे पों उस कमरे मैं पहुँच गई जिसमे मेरे नंदोई टीके थे , वो मेरा ही इंतजार केर रहे थे , जैसे ही मैं कमरे मैं पहुंची उन्होने दरवाजा बंद केर दीया और लैग्त भी बंद केर दी , मुझे यास समय आजीब सी सीहरण हो रही थी , जो की अश्वाभावीक नहीं था मई समझती हूँ की कोई भी औरत जब किसी परे मर्द के पास जाती होगी तो उसके जिस्म मैं यास तरह की सीहरण जरूर होती होगी , कमरा बंद करे के बाद जीजा जी ने बिना समय गंवाएय अपने और मेरे सारे कपरे उतार दिए , आप जानते हैं की मई कितनी बे-शर्म औरत हूँ फाई भी मुझे थोरी शर्म आ रही थी , एअस्का कारण जीजा जी के सामने नंगा हनी का पहला अवाषर था , चूँकि कमरे माय धुप अँधेरा था यास लिए अपने नंगेपन को लेकर मुझे ज्यादा परेशानी हाही हुई , मेरी परेशानी तो दर-अशाल उस समय सुरु हुई जब जीजा जी ने मेरे अंगों को सहलाना और दबाना सुरु किया , उनकी हरकत एअतनी मादक थी की मई अपने आप को भूल गई और उनसे कास केर लीपट गई , मेरे गले से सीत्कारें फूटने लगी थी , मैं दोनों हांथों से जीजा के पूरे बदन पैर चीकोतीयां काट रही थी , मुझे अपने हट्टे काठी बदन वाले नंदोई से लीपट कर कुछ अलग ही प्रकार का आनंद मिल रहा था ,


यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप www.HindiSexStoriesPictures.Com पर पढ़ रहे हैं

जीजा जी के पूरे बदन पैर बाल ही बाल थे और उनका खुदुरा बदन मेरे चीकने बदन मैं उत्तेजना की लहर पैदा केर रहा था ,


Share on :